SEO क्या है और इससे सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन कैसे करते हैं?

SEO क्या है (What is SEO in Hindi) और ये Blog या Website के लिए क्यूँ जरुरी है? बहुत से नए Bloggers इस सवाल को लेकर बहुत परेशान रहते है. आज के इस Online दौर में अगर आपको दुनिया के सामने आना है तब Online ही वो एकमात्र जरिया है जहाँ आप एक साथ लाखो लोगों के सामने उपस्तिथ हो सकते हैं.

आप यहाँ चाहे तो आप खुद videos के माध्यम से उपस्तिथ हो सकते हैं या फिर आप अपने content के द्वारा लोगों से जुड़ सकते हैं. लेकिन ऐसा करने के लिए आपको गूगल के search engines के first पेजेज पर आना होगा क्यूंकि यही वो pages हैं जिन्हें लोग ज्यादा पसंद करते हैं और विस्वास भी करते हैं.

लेकिन गूगल के फर्स्ट पेज पर पहुंचना आसान नहीं है क्यूंकि इसके लिए आपको अपने Articles का SEO बहतु ही अच्छे तरीके से करना होगा. मतलब की उन्हें सही तरीके से गूगल की नज़रो में Optimized करना होगा जिससे वो Search Engine में पहले पेज पर rank हो सके. और इसकी प्रक्रिया को ही SEO कहते हैं. वहीँ आज के इस Post में हम SEO किसे कहते हैं और इसे कैसे करें के विषय में आपको पूरी जानकारी देंगे।

अगर बात की जाए तो  Blogging की जड़ है SEO. ऐसा इसलिए क्यूंकि इसमें आप चाहे कितना भी अच्छा article लिख लें अगर आपकी article ठीक तरीके से rank नहीं हो रहा तो आप उसमें visitor की आने की संभावनाएं न के बराबर रह जाती है. ऐसे में writers का सारा मेहनत बेकार हो जाता है.

अगर आप blogging को लेकर बहुत ही जयदा serious हैं तब तो आपको SEO के विषय में जानकारी जरुर रखनी चाहिए. ऐसा करने से ये बाद में आपके बहुत काम में आने वाली हैं. एसईओ के सारे rule आपको नहीं पता होते हैं बल्कि ये कुछ Google Algorithms के ऊपर आधारित हैं और Google अपने Algorithms हमेसा बदलता रहता है.

एक बात का जरुर ध्यान दें की यदि कोई आपसे कहे की वो एक बड़ा SEO Expert in hindi है तब उस पर कभी यकीन न करें क्यूंकि आजतक कोई भी SEO पर mastery नहीं कर पाया है.

 

SEO क्या है – What is SEO in Hindi

What is SEO in Hindi

SEO या Search Engine Optimization एक ऐसा तरीका है, जिससे हम अपने पेज को सर्च इंजन में पहले पेज या टॉप में लाते है. सर्च इंजन क्या है ये हम सभी को पता है. Google दुनिया का सबसे popular search engine है इसके अलावा Bing, Yahoo जैसे और भी कई सारे search engine मौजूद है. SEO के मदद से हम अपने blog को सभी search engine पर No.1 position पर रख सकते हैं.

जैसे मान लीजिये हम Google में जाकर कुछ भी keyword type कर के search करते हैं तो उस keyword से related जितने भी contents होते हैं वो आपको Google दिख जाते है. ये contents जो हमे नज़र आते हैं वो सभी अलग अलग ब्लॉग या वेबसाइट से आते हैं.

जो result हमे सबसे ऊपर दिखाई देता है वो Google में No.1 rank पर है तभी वो सबसे ऊपर अपनी जगह बनाये रखा है. No.1 पर है मतलब की उस blog में SEO का बहुत अच्छी तरीके से इस्तेमाल किया गया है जिससे की उसमे ज्यादा visitors आते है और इसी वजह से वो blog मसहुर हो गया है.

SEO हमारे blog या Website  को Google में No.1 rank पर लाने के लिए सहायता करता है. ये एक तरीका है जो आपके website को search engine के search result में सबसे ऊपर रख कर उसमे visitors या traffic  की संख्या को बढाती है.

आपका website search result में सबसे ऊपर हो तो internet user सबसे पहले आपके website या Blog में ही visit karega जिससे आपके website या Blog में ज्यादा से ज्यादा Visitor होने की संभावना बढ़ जाती है और आपकी income भी अच्छी होने लगती है. अपने website या Blog पर Organic free traffic बढ़ाने के लिए SEO का इस्तेमाल करना बहुत जरुरी है.

SEO का फुल फॉर्म क्या है?

SEO का फुल फॉर्म है “Search Engine Optimization“.
एसईओ का हिंदी रूपान्तरण “सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन“.

SEO Blog के लिए क्यों जरुरी है?

आप ने जान लिया की SEO क्या है, चलिए अब जानते हैं की ये blog या Website के लिए क्यूँ जरुरी है. अपने website या Blog को लोगों तक पंहुचाने के लिए हम SEO का इस्तेमाल करते हैं. और अपनी रैंकिंग को बढ़ाते है।

What is SEO in Hindi
google.com

 

मान लीजिये अब मैंने एक website या blog  बना लिया है अब उसमे अच्छे अच्छे high quality contents भी publish कर दिए है लेकिन अगर मैंने SEO (Search Engine Optimization) का इस्तेमाल नहीं किया तो मेरा website या blog लोगों तक नहीं पहुँच पायेगा और मेरे Website या BLOG पर कोई भी traffic नहीं आएगा और मेरा बनाने का भी कोई फायेदा नहीं होगा.

अगर हम SEO का इस्तेमाल नहीं करेंगे तो कोई भी user  कुछ भी keyword Google पर search करेगा तो अगर आपके Website या Blog पर उस keyword से related अगर कोई content मौजूद नहीं है तो user आपके Website या BLOG को access नहीं कर पायेगा क्यूंकि GOOGLE पर search engine keyword सर्च करने के बाद हमारी website या Blog को ढूंढ नहीं पायेगा और ना ही हमारे website के content को अपने database पर store कर पायेगा, जिससे हमारी website या Blog में traffic होना बहुत ही मुश्किल हो जायेगा.

SEO को समझना कोई जंग में लड़ना इतना भी मुश्किल नहीं है अगर आपने इसे सिख लिया तो अपने blog या Website को बहुत ही बेहतर बना सकते हैं और उसकी value को search engine में बढ़ा सकते हैं.

SEO को सिख लेने के बाद जब उसका इस्तेमाल अपने blog या website के लिए करते हैं तो आपको उसका result तुरंत नहीं दिखाई देगा इसके लिए आपको धैर्य रख कर अपना काम करते रहना होगा. क्यूंकि काम करना ही सफलता की पूंजी है।

जैसे की मैंने आपको पहले ही यह बता दिया है की सर्च इंजन में ranking के लिए और Website या blog के traffic के लिए SEO करना कबहूत जरुरी हो चूका है। चलिए आप Search engine optimization के importance के विषय में और अधिक जानते हैं :

  • SEO आपके site के social promotion के लिए भी बहुत जरुरी होता है. क्यूंकि जो लोग आपके site को google जैसे search engine में देखते हैं तब वो ज्यादातर उन्हें social media जैसे की Facebook, Twitter, Google+ में share जरुर करते हैं.
  • SEO किसी भी site के traffic को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है.
  • ज्यादातर Users internet में search engines का इस्तमाल अपने सवालों के जवाब पाने के लिए करते हैं. ऐसे में वो search engine द्वारा दिखाए गए top results को ही ज्यादा ध्यान देते हैं. ऐसे में अगर आप भी लोगों के सामने आना चाहते हैं तब आपको भी SEO की मदद लेनी होगी blog या website को rank करने के लिए.
  • Users ज्यादातर top results को ही trust करते हैं और इससे उस website या Blog की Value बढ़ जाती है. इसलिए SEO के सन्दर्भ में जानना बहुत जरुरी होता है.
  • SEO केवल search engines के लिए नहीं है बल्कि अच्छे SEO practices के होने से ये user experience को बढ़ाने में मदद करता है और आपके website के usability को भी बढ़ता है.
  • SEO आपको किसी भी competition में जरुर आगे रहने में मदद करता है. उदहारण के लिए अगर दो websites समान चीज़ें बेच रही हैं, तब जो website SEO Optimized होती है वो ज्यादा customers अपने और खींचती हैं और उनकी sales भी बढ़ जाती है वहीँ दूसरी उतना नहीं कर पाती हैं.

Types of SEO in Hindi

SEO दो प्रकार के होते हैं एक है Onpage SEO और दूसरा है Offpage SEO. इन दोने का काम बिलकुल अलग है चलिए हम इनके बारे में भी जान लेते हैं.

  1. On-Site Technical/ ON-Page SEO
  2. Off-Page SEO
  3. Local SEO

1. On-Site Technical/ ON-Page SEO

On-page SEO का काम आपके blog या Website में होता है. इसका मतलब है की अपने website या BLOG को ठीक तरह से design करना जो SEO friendly हो.

SEO के rule को follow कर अपने website में template का इस्तेमाल करना. अच्छे contents लिखना और उनमे अच्छे keywords का इस्तेमाल करना जो search engine में सबसे ज्यादा खोजी जाती है.

Keywords का इस्तेमाल page में सही जगह करना जैसे Title, Meta description, content में keyword का इस्तेमाल करना इससे Google को जानने में आसानी होती है की आपका content किसके ऊपर लिखा गया है और जल्दी आपके website को Google page पर rank करने में मदद करता है जिससे आपके blog की traffic बढती है.

On Page SEO कैसे करे

यहाँ पर हम कुछ ऐसे techniques के बारे में जानेंगे जिनकी मदद से हम अपने Blog या Website को On Page SEO अच्छे तरीके से कर सकेंगे.

1. Website Speed
Website speed एक बहुत ही महत्वपूर्ण कड़ी है SEO के दृष्टी से. एक survey से पाया गया है की किसी भी Visitor ज्यादा से ज्यादा से 3 या 5 seconds ही किसी blog या website पर आता है.

अगर वो इसी समय के भीतर नहीं खुला तब वो उसे छोड़ दुसरे Blog या Website में चला जाता है. और ये बात Google के लिए भी लागु होती है क्यूंकि अगर आपका Blog जल्दी नहीं खुला तब एक negative signal Google के पास पहुँच जाता है की ये blog उतनी अच्छी नहीं है या ये ज्यादा fast नहीं है. तो जितना हो सके अपनी साईट की स्पीड अच्छी रखें.

यहाँ मैंने कुछ important tips दिए है जिससे आप अपनी blog या website की speed fast कर सकते हैं :

  • Simple और attractive theme का इस्तमाल करें
  • Image का size कम-से-कम रखें
  • W3 Total cache और WP super cache plugins का इस्तमाल करें
  • ज्यादा plugins का इस्तेमाल न करें

2. Title Tag
अपनी website में टाइटल टैग बहुत ही अच्छा बनाए जिससे कोइ भी visitor उसे पढ़े तो उसे जल्द से जल्द आपके टाइटल पर Click कर दे इससे आपका CTR भी increase होगा.

कैसे बनायें अच्छे Title Tag : – अपने Title में 65 word से ज्यादा Words का इस्तमाल न करें क्यूंकि Google 65 words के बाद google searches में title tag show नही करता है.

3. Website की Navigation
अपनी blog या website में इधर उधर जाना आसान होना चाहिए जिससे कोइ भी visitor और Google को एक पेज से दूसरे पेज में जाने में कोई परेशानी ना हो।

6. Alternative Tag
अपने Website के post में images का इस्तमाल जरुर करें. क्यूंकि images से आप बहुत सारा traffic पा सकते हैं इसलिए image को इस्तमाल करते समय उसमें ALT TAG लगाना ना भूले।

4. Post का URL कैसे लिखें
हमेशा अपने post का url आप जितना simple और छोटा हो सके उतना रखें।

5. Internal Linking
ये अपने Post को rank करने के लिए एक बेहतरीन तरीका है. इससे आप अपने Related Pages को एक दुसरे के साथ Interlinking कर सकते हैं. इससे आपके सभी Interlinked pages आसानी से rank हो सकते हैं।

7. Content, Heading और keyword Setting
Content के बारे में जैसे की हम सभी जानते हैं की ये बहुत ही महत्वपूर्ण कड़ी है. क्यूंकि Content को King भी कहा जाता है और जितनी अच्छी आपकी Content होगी उतने अच्छे site की valuation होगी. इसलिए कम से कम 800 words से ज्यादा words के Content लिखें.

इससे आप पूरी जानकारी भी दे सकते हैं और ये SEO के लिए भी अच्छा है. कभी भी किसी दुसरे से Content न चुराएँ या copy करें.

Heading: अपने Article के Headings का ख़ास ख्याल रखना चाहिए क्यूंकि इससे SEO पर काफी impact पड़ता है. Article का Title तो H1 होता है और इसके बाद के Sub headings को आप H2, H3 इत्यादि से नामांकित कर सकते हैं. इसके साथ आप focus keyword का जरुर इस्तमाल करे.

Keyword : आप Article लिखते समय LSI Keyword का इस्तमाल करें. इससे आप लोगों के Searches को आसानी से link कर सकते हैं. इसके साथ important keywords को BOLD करें जिससे की Google और Visitors को ये पता चले की ये जरुरी Keywords हैं और उनका ध्यान इसके तरफ आकर्षित होगा.

यह थे कुछ point On-Page seo के बारे में कुछ जानकरी.

2. Off-Page SEO

Off page SEO का सारा काम blog के बाहार होता है. Off page SEO में हमे अपने blog का promotion करना होता है जैसे बहुत से popular blog में जाकर उनके article पर comment करना और अपने website का link submit करना इसे हम backlink कहते हैं. Backlink से website को बहुत फायेदा होता है.

बड़े बड़े blogs जो बहुत ही ज्यादा Famous हैं उनके blog पर guest post submit करीए इससे उनके blog पे आने वाले visitors आपको जानने लगेंगे और आपके website पर traffic आना शुरू हो जायेगा.

Social networking site जैसे Facebook, twitter, Quora पर अपने website का attractive page बनाइये और अपने followers बढाइये इससे आपके website में ज्यादा visitors बढ़ने के chances होते हैं.

Off Page SEO कैसे करे

यहाँ पर में आप लोगों को कुछ Off Page SEO Techniques के बारे में बताऊंगा जो की आपके लिए बहुत उपयोगी सिद्ध होगा आगे चलकर.

1.  Search Engine Submission: अपनी वेबसाइट को सही तरीके से सारे सर्च इंजन में submit करना चाहिए.

2.  Bookmarking Sites : अपनी blog या website के page और post को Bookmarking वाली वेबसाइट में submit करना चाहिए.

3. Blog Commenting : अपने Blog से Related ब्लॉग पर जाकर उनके पोस्ट में कमेंट कर सकते हैं और अपनी website का link लगा सकते हो (link वही लगाना चाहिए जहाँ website लिखा होता है)

4. Guest Posting: आप अपनी वेबसाइट से Related ब्लॉग पर जाकर Guest Post कर सकते हैं यह सबसे अच्छा वे है जहाँ से आप do-follow link ले सकते हैं और वो भी बिलकुल सही तरीके से.

5. Directory Submission Site : अपनी blog या website को popular high PR वाली Directory में submit करना चाहिए.

6. Social Media Management: अपनी blog या website का page और Social Media पर Profile बनाना चाहिए और अपनी वेबसाइट का link Ad करदो like फेसबुक, गूगल+, twitter, LinkedIn

7. Classified Submission Sites: Free Classified Website में जाकर अपनी वेबसाइट का फ्री मे advertise करना चाहिए.

8. Question & Answer site: आप question and answer वाली वेबसाइट में जाकर कोई भी question कर सकते हो और अपनी साईट का लिंक लगा सकते हैं.

3. Local SEO क्या होता है?

अक्सर लोग यह पूछते है के Local SEO क्या होता है? मानें तो इसका जवाब इसके सवाल में ही छुपा हुआ है.

Local SEO को अगर बताया जाये तो ये दो शब्दों का मिलाप है Local + SEO. यानि की किसी local audience को ध्यान में रखकर किया जाने वाला SEO को Local SEO कहा जाता है.

यह एक ऐसी technique है जिसमें की आपकी website या blog को ख़ास तोर से सर्च इंजन optimize किया जाता है जिससे की search engine पर बेहतर रैंक कर सके वो भी एक local audience के लिए.

वैसे एक website की मदद से आप पुरे internet को target कर सकते हैं, वहीँ अगर आपको एक पर्टिकुलर Audience locality को ही target करना है तब इसके लिए आपको Local Seo का use करना होगा.

इसमें आपको optimize करना होगा आपके Area या शहर के नाम से, वहीँ इसके address details को भी साथ में optimize कर सकते है। वहीँ इसे विस्तार में कहें तो आपको कुछ ऐसे तरीके से अपने website को optimize करना होगा जिससे की लोगों को केवल online ही नहीं बल्कि offline में भी आपको जान सकें.

Local SEO का उदहारण

यदि आप केवल अपने ही किसी local area को ही target करते हैं और उसी हिसाब से अपनी website को seo के माध्यम से optimized करते हैं. तब इस प्रकार के SEO को “local SEO” कहा जाता है.

अगर आपके पास एक local business है, यानि की एक दुकान है, जहाँ की लोगो को आपके यहाँ अक्सर जाना आना हो, तब ऐसे में यदि आप अपने website को optimize करते हैं जिससे real life में भी लोग आपके पास आसानी से पहुँच सके.

 

SEO और Online marketing में Difference क्या है?

बहुत से लोगों में SEO और Online Marketing को लेकर बहुत doubts होते हैं. उन्हें लगता है की ये दोनों एक समान होते हैं. लेकिन  SEO एक प्रकार का Tool हैं जो Online Marketing का एक हिस्सा भी कह सकते हैं. इसके इस्तमाल से Online Marketing को कर पाना बहुत ही आसान हो जाता है.

SEO और SEM में क्या अंतर है?

SEO और SEM में जो मुख्य अंतर है वो ये की SEO एक महत्वपूर्ण हिस्सा है SEM का. चलिए दोनों SEO और SEM के विषय में जानते हैं.

SEO या Search Engine Optimization एक process है जिसके द्वारा एक Blogger अपने Blog या Website को कुछ इसप्रकार से optimize करता है की जिससे वो blog के articles को Search Engine में rank कर सकें और वहां से अपने blog पर free traffic ला सके.
SEM या Search Engine Marketing एक marketing process है जिसके द्वारा आप अपने blog को search engines में ज्यादा visible बना सकते हो जिससे आपको traffic आये चाहे वो free traffic (SEO) हो या फिर paid traffic (Paid Search Advertising).

SEO का मुख्य उद्देश्य है की आपका blog/website ठीक ढंग से optimize हो सके ताकि search engine में better ranking प्राप्त कर सके. वहीँ SEM से आप SEO की तुलना में ज्यादा चीज़ प्राप्त कर सकते हैं. क्यूंकि ये केवल Free traffic तक ही सिमित नहीं है बल्कि इसमें दुसरे methods भी शामिल हैं जैसे की PPC advertising इत्यादि.

SEO के बारे में जानकारी (Terms)

यदि आपका कोई blog या कोई website है तब तो आपको basic seo के बारे में बहुत कुछ पता होगा की ये कैसे काम करता है. लेकिन आप में से ऐसे बहुत सारे लोग हैं जिन्हें की Basic SEO के बारे में भी कुछ जानकारी नहीं है.

इसलिए आप लोगों को कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण SEO Terms के बारे में जानकारी दे दी जाये जिससे की आपको भी इसके बारे में पता चल सके.

  • Title Tag:  Title Tag मुख्य रूप से किसी भी Web Page का Title होता है और ये बहुत ही महत्वपूर्ण factor है Google’s Search Algorithm के लिए.
  • Meta Tags:  Title Tag के जैसे ही Meta Tag का इस्तमाल से Search Engines को ये पता चलता है की Pages में content में क्या स्तिथ है.
  • Search Algorithm:  Google’s search algorithm की मदद से हम ये पता कर सकते हैं की पुरे Internet में कोन सी Web Pages relevant हैं. लगभग 200 algorithms काम करती हैं Google के Search Algorithm में.
  • Backlink:  इसके inlink या simply link भी कहा जाता है, ये एक hyperlink होता है किसी दुसरे website में जो की आपके Website के तरफ इशारा करता है. Backlinks seo के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है, क्यूंकि ये किसी भी Web Page की Search Ranking को directly influence करता है.
  • PageRank: PageRank एक algorithm है जिसे की Google इस्तमाल करता है ये अनुमान लगाने लिए की web search में कोन कोन सी Relative important pages स्तिथ हैं.
  • Anchor text:  किसी भी backlink का Anchor Text के प्रकार का text होता है जो की clickable होता है. यदि आपके Anchor Text में आपका Keyword मेह्जुद है तब तो ये आपको SEO के दृष्टी से भी काफी मदद करेगा.
  • SERP:  इसके full form हैं Search Engine Results Page. ये basically उन्ही pages को show करता है जो की Google Search Engines के हिसाब से Relevant हों.
  • Robots.txt:  ये ज्यादा कुछ नहीं बस एक File होती है जिसे की Domain के Root में रखा जाता है. इसके इस्तमाल से search बोट्स को ये सूचित किया जाता है की Website की Structure कैसी है.
  • Keyword Density:  ये Keyword Density से ये पता चलता है की कितनी बार कोई भी Keyword article में कितनी बार इस्तमाल की गयी हैं. Keyword Density SEO की दृष्टी से काफी महत्वपूर्ण है.
  • Keyword Stuffing:  जैसे की मैंने पहले ही कहा की Keyword Density SEO की दृष्टी से काफी महत्वपूर्ण है लेकिन अगर कोई Keyword को जरुरत से ज्यादा इस्तमाल किया जाये तो उसे Keyword Stuffing कहते हैं. ये Negative SEO कहलाता हैं क्यूंकि इससे आपके Blog पर ख़राब असर पड़ता है.

Organic और inorganic results क्या होते हैं?

SERP (Search Engine Result Page) पर मुख्य रूप ऐ दो तरह की listings होती हैं – Organic और Inorganic.

इसमें Inorganic Listing के लिया हमें Google को पैसे देते है. यानि के ये Paid होते हैं और इसमें पैसों का भुक्तान करना पड़ता है.

वहीँ Organic listing पूरी तरह से free होती है यानि की बिना पैसे दिये हम Google के टॉप page या पहले नंबर पर भी आ सकते हैं, लेकिन इसके लिए पहले आपको SEO करना होता है.

SEO सीखे – (हिंदीसे)

आप अब सब समझ ही गए होंगे के SEO क्या है (What is SEO in Hindi). यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप निचे दिए गए कमैंट्स Section में लिख सकते हैं.

आसानी से अब आप एसईओ क्या होता है का जवाब दे सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा.

यदि आपको यह लेख सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन  की जानकारी हिंदीसे अच्छी लगी हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Facebook, Twitter इत्यादि पर share कीजिये.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

error: